Pauri Garhwal

Pauri Garhwal

पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) उत्तराखंड राज्य का एक जिला है। इसका मुख्यालय पौड़ी (Pauri) शहर में है, जो कि समुद्र तल से 1650 मीटर ऊपर स्थित एक खूबसूरत हिल स्टेशन है और यहाँ कंडोलिया पहाड़ी की ढाल पर स्थित है । इसे कभी-कभी गढ़वाल जिले के रूप में भी संदर्भित किया जाता है, हालांकि यह गढ़वाल मंडल का भी मुख्यालय है। यह 5230 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। 1992 में इसे हिल स्टेशन घोषित किया गया। पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) 1815 से 1840 तक ब्रिटिश गढ़वाल की राजधानी श्रीनगर रही । 1840 में राजधानी श्रीनगर से पौड़ी में स्थानान्तरित की गई और पौड़ी को ब्रिटिश गढ़वाल का एक जिला बनाया गया । स्वतंत्रता के बाद 1969 में इसे गढ़वाल मंडल का मुख्यालय बनाया गया। पौड़ी गढ़वाल की भूमि बर्फ से लदे हिमालय की चोटियों, प्राकृतिक घाटियों, नदियों, घने जंगलों और मेहमानन वाजी एवं समृद्ध संस्कृति से पूर्ण लोगों से आशीषित हैं। यह जिला कोटद्वार के ‘भाबर’ क्षेत्रों की तलहटी से लेकर 3,000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित दूधातोली (उत्तराखंड का पामीर- दूधातोली चमोली, अल्मोड़ा व टिहरी गढ़वाल में फेली पर्वत श्रृंखला) के आत्मा को मोहने वाले घास के मैदानों में तक भिन्न भिन्न है जो सर्दियों के महीनों के दौरान बर्फ से ढकी रहती है । पौड़ी गढ़वाल के अधिकांश स्थानों में हिमाच्छादित हिमालयी भव्यता का एक लुभावना दृश्य पेश करता है । जिला पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) जो चमोली, नैनीताल , बिजनौर, हरिद्वार, देहरादून, रुद्रप्रयाग और टिहरी गढ़वाल जिलों से घिरा है । अपने शहरो एवं गाँव से हिमालयों का एक विशाल दृश्य पेश करता है । हिमालय की भव्यता और उसकी पर्वत श्रृंखला जिले में कहीं से भी देखा जा सकती है।

Pauri Garhwal
Pauri Garhwal

पौड़ी गढ़वाल का इतिहास (History of Pauri Garhwal)

कत्युरी पहला ऐतिहासिक राजवंश था, जिसने एकीकृत उत्तराखंड पर शासन किया और शिलालेख और मंदिरों के रूप में कुछ महत्वपूर्ण अभिलेख छोड़ दिए | कत्युरी के पतन के बाद की अवधि में, यह माना जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र 64 (चौसठ) से अधिक रियासतों में विखंडित हो गया था और मुख्य रियासतों में से एक चंद्रपुरगढ़ थी , जिस पर कनकपाल के वंशजो थे। 15 वीं शताब्दी के मध्य में चंद्रपुररगढ़ जगतपाल (1455 से 14 9 3 ईसवी), जो कनकपाल के वंशज थे, के शासन के तहत एक शक्तिशाली रियासत के रूप में उभरा । 15 वीं शताब्दी के अंत में अजयपाल ने चंदपुरगढ़ पर सिंहासन किया और कई रियासतों को उनके सरदारों के साथ एकजुट करके एक ही राज्य में समायोजित कर लिया और इस राज्य को गढ़वाल के नाम से जाना जाने लगा। इसके बाद उन्होंने 1506 से पहले अपनी राजधानी चांदपुर से देवलगढ़ और बाद में 1506 से 1519 ईसवी के दौरान श्रीनगर स्थानांतरित कर दी थी।

राजा अजयपाल और उनके उत्तराधिकारियों ने लगभग तीन सौ साल तक गढ़वाल (Garhwal) पर शासन किया था, इस अवधि के दौरान उन्होंने कुमाऊं, मुगल, सिख, रोहिल्ला के कई हमलों का सामना किया था। गढ़वाल के इतिहास में गोरखा आक्रमण एक महत्वपूर्ण घटना थी। यह अत्यधिक क्रूरता के रूप में चिह्नित थी और ‘गोरखायनी’ शब्द नरसंहार और लूटमार सेनाओं का पर्याय बन गया था। दती और कुमाऊं के अधीन होने के बाद, गोरखा ने गढ़वाल पर हमला किया और गढ़वाली सेनाओ द्वारा कठोर प्रतिरोधों के बावजूद लंगूरगढ़ तक पहुंच गए। लेकिन इस बीच, चीनी आक्रमण की खबर आ गयी और गोरखाओं को घेराबंदी करने के लिए मजबूर किया गया। हालांकि 1803 में उन्होंने फिर से एक आक्रमण किया। कुमाऊं को अपने अधीन करने के बाद गढ़वाल में त्रिय(तीन) स्तम्भ आक्रमण किया हैं। पांच हज़ार गढ़वाली सैनिक उनके इस आक्रमण के रोष के सामने टिक नही सके और राजा प्रदीमन शाह अपना बचाव करने के लिए देहरादून भाग गए। लेकिन उनकी सेनाएं की गोरखा सेनाओ के साथ कोई तुलना नही हो सकती थी । गढ़वाली सैनिकों भारी मात्रा में मारे गए और खुद राजा खुडबुडा की लड़ाई में मारे गए । 1804 में गोरखा पूरे गढ़वाल के स्वामी बन गए और बारह साल तक क्षेत्र पर शासन किया।

सन 1815 में गोरखों का शासन गढ़वाल क्षेत्र से समाप्त हुआ, जब अंग्रेजों ने गोरखाओं को उनके कड़े विरोध के बावजूद पश्चिम में काली नदी तक खिसका दिया था। गोरखा सेना की हार के बाद, 21 अप्रैल 1815 को अंग्रेजों ने गढ़वाल क्षेत्र के पूर्वी, गढ़वाल का आधा हिस्सा, जो कि अलकनंदा और मंदाकिनी नदी के पूर्व में स्थित है, जोकि बाद में, ‘ब्रिटिश गढ़वाल’ और देहरादून के दून के रूप में जाना जाता है, पर अपना शासन स्थापित करने का निर्णय लिया । पश्चिम में गढ़वाल के शेष भाग जो राजा सुदर्शन शाह के पास था, उन्होंने टिहरी में अपनी राजधानी स्थापित की । प्रारंभ में कुमाऊं और गढ़वाल के आयुक्त का मुख्यालय नैनीताल में ही था लेकिन बाद में गढ़वाल अलग हो गया और 1840 में सहायक आयुक्त के अंतर्गत पौड़ी जिले के रूप में पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) स्थापित हुआ और उसका मुख्यालय पौड़ी (Pauri) में गठित किया गया।

आजादी के समय, गढ़वाल, अल्मोड़ा और नैनीताल जिलों को कुमाऊं डिवीजन के आयुक्त द्वारा प्रशासित किया जाता था । 1960 के शुरुआती दिनों में, गढ़वाल जिले से चमोली जिले का गठन किया गया । 1969 में गढ़वाल मण्डल पौड़ी मुख्यालय के साथ गठित किया गया । 1998 में रुद्रप्रयाग के नए जिले के निर्माण के लिए जिला पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) के खिर्सू विकास खंड के 72 गांवों के लेने के बाद जिला पौड़ी गढ़वाल आज अपने वर्तमान रूप में पहुंच गया है।


पौड़ी गढ़वाल के प्रमुख दर्शनीय स्थल (Major Attractions in Pauri Garhwal)

सुंदर पहाड, नीला आसमान, और हरी भरी गहरी घाटियाँ में स्थित पौड़ी जिसे गढ़वाल मंडल के कमिशनरी के लिए तथा अपने मौसमी वातावरण सर्दियों में गर्मियों और ठंड में ज्यादातर सुखद के लिए जाना जाता है। यहाँ चोटी पर सदाबहार देवदार के पेड़ों के बीच कांडोलिया देवता का मंदिर स्थित है, जिन्हें स्थानीय भाषा में “भूमि देवता” कहा जाता है। पौड़ी से नंदादेवी और त्रिशूल, गंगोत्री पर्वत माला, नीलकंठ, बंदर पुंछ, स्वर्गारोहिणी, केदारनाथ, खारचा कुंड, सतोपंथ, चौखम्बा, गोरी पर्वत, हाथी पर्वत माला और हिमाच्छादित हिमालय की चोटियों के मनोरम दृश्य दिखाई देते हैं। यहाँ शहर का दौरा दुनिया भर के पर्यटकों, शोधकर्ताओं और छात्रों द्वारा किया जाता है। ट्रेकर्स, पैराग्लाइडिंग के शौकीनों और प्रकृति प्रेमियों के लिए यह जगह एक स्वर्ग जैसा है।

Pauri Garhwal Kandoliya Mandir
Pauri Garhwal Kandoliya Mandir

कंडोलिया मंदिर : कंडोलिया देवता यहाँ के स्थानीय देवता हैं और यहाँ भगवन शिव जी को समर्पित मंदिर है , जिन्हें स्थानीय भाषा में भूमि देवता कहा जाता है। यहाँ पौड़ी में कंडोलिया की पहाड़ियों पर ओक और पाइन के घने जंगल में बीच स्थित है।

नागदेव मंदिर : यह मंदिर पौड़ी-बुबाखाल रोड पर पाइन और रोडोडेंड्रन के घने जंगल के बीच में स्थित है। मंदिर बस स्टेशन से 5 किमी दूर स्थित है तथा यहाँ पर 1 और 1/2 किलोमीटर ट्रेक द्वारा भी पहुंचा जा सकता है।

Pauri Garhwal Jwalpa Devi Temple
Pauri Garhwal Jwalpa Devi Temple

माँ ज्वाल्पा देवी मंदिर : वी दुर्गा को समर्पित इस क्षेत्र का प्रसिद्ध शक्तिपीठ माँ ज्वाल्पा देवी का मंदिर पौड़ी-कोटद्वार मोटर सड़क पर पौड़ी से लगभग 33 किमी दूरी पर स्थित है। लोग दूर दूर से अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए नवरात्रों के दौरान एक विशेष पूजा के लिए आते हैं। मंदिर नायर नदी के उत्तरी किनारे पर स्थित है तथा सतपुली से लगभग 17 किमी दूरी पर है।

  • प्रसिद्ध पर्यटक स्थल : खिर्सू, कोटद्वार, लैंसडौन, कालागढ़,चीला, पौड़ी, श्री नगर, दूधातोली, करणवाश्रम
  • प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान : ढिकाला पर्यटक स्थल (जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क), चिला पर्यटक स्थल (राजाजी राष्ट्रीय उद्यान)
  • प्रसिद्ध मेले और त्योहार : गढ़वाल में मकर संक्रांति जिसे उत्तरायनी भी कहते है खिचड़ी संक्राति के रूप में मनाया जाती है जिसमें ‘उड़द दाल दल’ से खिचड़ी तैयार की जाती है और ब्राह्मणों को चावल और उड़द दाल दान की जाती । इस दिन, जिले के डंडामंडी, थलनदी आदि विभिन्न स्थानों पर गिन्दी मेलों का आयोजन किया जाता है। पौड़ी गढ़वाल के प्रसिद्ध मेले – सिद्धबली जयंती , गेंदा कौथिक , वीरचन्द्रसिंह गढ़वाली मेला , मधुगंगा मेला , बैकुंठ चतुर्दशी मेला , ताड़केश्वर मेला , गंवाइस्यू भेला , कण्वाश्रम मेला , भुवनेश्वरी देवी मेला, बिनसर मेला है, ‘बसंत पंचमी’, जिसे ‘श्रीपंचमी’ भी कहा जाता है, पर ‘क्षेत्रपाल’ या भूमि देवता की पूजा की जाती है । ‘विषुवत संक्रांति पर नए साल की शुरुवात होती है जिसे ‘विखोति’ के रूप में मनाया जाता है। इस दिन कुछ स्थान जेसे पोखल के पास त्रिवणी, देवलगढ़ आदि स्थानों परमेले आयोजित किए जाते हैं। इसी तरह, ‘होली’, ‘दीपावली’, ‘शिवरात्रि’, ‘विजयदशमी’, ‘रक्षाबंधन’ आदि त्यौहार हिंदू परंपराओं के अनुसार माने जाते हैं।

पौड़ी गढ़वाल कैसे पहुंचें (How To Reach Pauri Garhwal)

पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) जिले के प्रमुख स्थल जैसे कोटद्वार, लैंसडाउन, पौड़ी, श्रीनगर आदि टिहरी-मुरादाबाद राज्य राजमार्ग और राष्ट्रीय राजमार्ग से जुड़े है । यहाँ से नियमित बसें, टैक्सी, इन जगहों से जिलों के सभी हिस्सों और आस-पास के पहाड़ी इलाकों तक चलती है और सरकारी बसें रोडवेज, जीएमओएलएल, के.एम.ओ.ओ.एल.एल और अन्य निजी बसें उपलब्ध रहती हैं । निकटतम हवाई अड्डा जॉलीग्रांट (देहरादून) है जो कि जिला मुख्यालय से 155 किमी दूर है।

  • रेल से : पौड़ी (Pauri) से 108 किमी दूर प्रमुख रेलवे स्टेशन कोटद्वार है। कोटद्वार रेलवे स्टेशन दिल्ली नजीबाबाद आदि शहरो से जुड़ा हुआ है
  • सड़क से :  पौड़ी सड़क मार्ग से देहरादून, ऋषिकेश, हरिद्वार, कोटद्वार और अन्य शहरो से जुड़ा हुआ है।
  • फ्लाइट से : पौड़ी गढ़वाल (Pauri Garhwal) जिले का निकटतम हवाई अड्डा जॉलीग्रांट (देहरादून) है जो पौड़ी से 193.3 k किमी. और कोटद्वार से 119 किमी की दूरी पर स्थित है तथा बस, टैक्सी तथा अन्य स्थानीय यातायात की सुविधायें यहाँ उपलब्ध रहती हैं।

3 thoughts on “Pauri Garhwal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: