Uttarakhand

Top 6 Adventure Tourism in Uttarakhand

Adventure Tourism in Uttarakhand

उत्तराखंड (Uttarakhand) एक स्वर्गीय गंतव्य है, जो यहां सभी पर्यटकों (Tourists) को विभिन्न साहसिक गतिविधियों और देवभूमि (Adventure Tourism in Uttarakhand) उत्तराखंड के एडवेंचर टूरिज्म की पेशकश करता है। यहाँ का एडवेंचर टूरिज्म (Tourism in Uttarakhand) भारत के इस हिमालयी राज्य के समग्र पर्यटन उद्योग में अधिकांश भाग में योगदान देता है। 10 Interesting Things …

Top 6 Adventure Tourism in Uttarakhand Read More »

10 Interesting Things of Uttarakhand

10 Interesting Things of Uttarakhand

वैसे तो समस्त उत्तराखंड (Uttarakhand) अपार संसाधनों से भरा हुआ है पर उत्तराखंड की 10 दिलचस्प बातें (10 Interesting Things of Uttarakhand) जो बहुत काम ही लोग जानते है। उत्तराखंड, भारत के इस हिमालयी राज्य का नाम सुनते ही बर्फ से पटे पहाड़, उथल पुथल करती नदियाँ, ऊँचे पहाड़ो में बडे-बडे बुग्याल के मैदान, लाजवाब …

10 Interesting Things of Uttarakhand Read More »

Tarkeshwar Mahadev Temple

Tarkeshwar Mahadev Temple

ताड़केश्वर महादेव मंदिर (Tarkeshwar Mahadev Temple), लैंसडौन (lansdowne) से 34 किलोमीटर दूर स्थित है, यह मंदिर पौड़ी जनपद के जयहरीखाल विकासखण्ड के अन्तर्गत लैन्सडौन डेरियाखाल – रिखणीखाल मार्ग पर स्थित चखुलाखाल नामक गांव से लगभग ४ किमी० की दूरी पर समुद्रतल से लगभग 1800 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ताड़केश्वर महादेव मंदिर (Tarkeshwar Mahadev …

Tarkeshwar Mahadev Temple Read More »

Kotdwar A Gateway Of Garhwal

Kotdwar

कोटद्वार (Kotdwar) यह उत्तराखंड का महत्वपूर्ण शहर है, कोटद्वार को गढ़वाल के प्रवेश द्वार (Kotdwar A Gateway Of Garhwal) और पौड़ी जिले का सबसे बड़ा शहर के रूप में जाना जाता है। इसके नाम का अर्थ होता है– कोट या पहाड़ी तथा द्वार अर्थात् “पहाड़ियों का द्वार”। प्रभावस्वरूप यह गढ़वाल की पहाड़ियों का प्रवेश द्वार …

Kotdwar A Gateway Of Garhwal Read More »

Significance of Rakshabandhan in Uttarakhand

Rakshabandhan in Uttarakhand

(उत्तराखंड में रक्षाबंधन का महत्व) Significance of Rakshabandhan in Uttarakhand उत्तराखंड में रक्षाबन्धन (Rakshabandhan in Uttarakhand) त्यौहार का अपना एक धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व है। है यहाँ इसे श्रावणी कहते हैं। इस दिन यजुर्वेदी द्विजों का उपकर्म होता है। उत्सर्जन, स्नान-विधि, ॠषि-तर्पणादि करके नवीन यज्ञोपवीत धारण किया जाता है। ब्राह्मणों का यह सर्वोपरि त्यौहार माना …

Significance of Rakshabandhan in Uttarakhand Read More »