Cuisine Of Uttarakhand

प्राकृतिक सौंदर्य की इस देवभूमि में छिपे उत्तराखंड के शानदार व्यंजनों और दैनिक (Cuisine Of Uttarakhand) भोजन पर एक नजर… वैसी तो भारत विविध संस्कृति का देश है, पर इसके प्रत्येक राज्य का अपना भोजन भी है और साथ साथ उसकी भी अपने एक अलग पहचान है। कहते है कि “एक जीव के दिल का रास्ता उसके पेट से होकर गुजरता है” पर बात करे उत्तराखंड के व्यंजनों (Cuisine Of Uttarakhand) की तो यहाँ के व्यंजनों अपनी विशिष्ट परंपराएं, त्योहार और संस्कृति से जुड़े हुई हैं, और यहाँ के भोजन का स्वाद और पोषण बदलते मौसम के अनुसार लोगों की भोजन की आदतें बदल जाती हैं। सर्दियों में जहाँ माथिर और तिल के लड्डू, मडुआ की रोटियां, “कंडाली का साग” पसंद की जाती हैं, तो गर्मियों में, छोलिया रोटियों (मीठी रोटी), झंगोरा की खीर और “कापुल” लिया जाता है। उत्तराखंड के व्यंजनों के बारे में अनोखी बात यह है कि आज भी ज्यादातर खाना लकड़ी या लकड़ी के कोयले में ही पकाया जाता है जो उसे अतिरिक्त पोषण प्रदान करता है।