Discover Uttarakhand

10 Best Lovely Valley in Uttarakhand

उत्तराखंड के ये 10 सर्वश्रेष्ठ और सुंदर घाटियाँ (10 Best and Lovely Valley in Uttarakhand) आज भी बहुत से पर्यटकों और धूमने वालों से दूर है। भारत के उत्तरी हिमालयी राज्य उत्तराखंड में इतनी खूबसूरत नजारों और शानदार दृश्य वाले घाटियाँ है, कि हम उन सबको देखने की सिर्फ कोशिश और कल्पना ही कर सकते है।

इसीलिए यहाँ पर उन घाटियों में से कुछ सबसे सबसे सुंदर, रहस्यमय और अनदेखी, अद्भुत घाटियाँ की एक लिस्ट है जो आपको उत्तराखंड के उत्तरी हिमालये से लेकर और उत्तर-पूर्वी भागों में मिलेगी।

10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand
10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand

In This Guide, Take A Look at :

जानिए उत्तराखंड की 10 बेस्ट और ब्यूटीफुल वैली के बारे में (Know About 10 Best and Lovely Valley in Uttarakhand)

उत्तराखंड की छोटी-छोटी घाटियाँ और बारहमासी नदियाँ प्रकृति प्रेमियों और पैदल यात्रियों को अद्भुत अनुभव प्रदान करती हैं। हिमालय पर्वतमाला के सम्मोहित करने वाले प्राकृतिक दृश्य, और प्राकृतिक परिवेश के भीतर बुनियादी जीवन को व्यक्त करने वाले पारंपरिक विश्वासों का दावा करते हुए, इस उत्तरी हिमालयी राज्य उत्तराखंड कहें चाहे, देवों की भूमि उत्तराखंड कहें को शानदार असामान्य भव्यता और शांत आध्यात्मिकता की भूमि के रूप में जाना जाता है।

Top 6 Adventure Tourism in Uttarakhand

10 Best Hill Station in Uttarakhand

इसलिए उत्तराखंड की घाटियों में यात्रियों के लिए सब कुछ है, जो साहसी और निडर हैं और हिमालय की यात्रा का सामना करना चाहते हैं, वह अपने जीवन के सबसे बेहतरीन यात्रा का लाभ उठाते है और अपने सबसे आनंदमय पलों को जीते है।

  1. Pindar Valley : Bizarre And Beautiful Valley in Uttarakhand
  2. Valley Of Flowers : Paradise for Nature lovers And Scenic Valley in Uttarakhand
  3. Mana Valley : Popular Hindu Pilgrimage Site And Last village Valley in Uttarakhand
  4. Darma Valley : Mythological value Valley in Uttarakhand
  5. Johar Valley : Destination For Trekkers And Trade route Valley in Uttarakhand
  6. Har Ki Doon Valley : The Valley of God And Charms Valley in Uttarakhand
  7. Tons Valley : Cultural And Rich diversity Valley in Uttarakhand
  8. Doon Valley : Gateway of Shivalik Hills Or Serene Valley in Uttarakhand
  9. Saur Valley : Smallest, Cool and beautiful Valley in Uttarakhand
  10. Bhilangana Valley : Enthralling Valley in Uttarakhand

उत्तराखंड में 10 सर्वश्रेष्ठ और सुंदर घाटियाँ (10 Best and Lovely Valley in Uttarakhand)

यदि आप सोच रहे थे कि उत्तराखंड में कौन सी घाटियाँ हैं, जहाँ तक पहुँचना आसान है, या एक बेहतरीन ट्रेक प्रदान करते हैं, या एक बस जो आपको आराम करने और कायाकल्प करने देगी तो यहाँ कुछ बेहतरीन उत्तराखंड की घाटियों की सूची दी गई है, जिन्हें आपको तलाशना चाहिए! और अपने उत्तराखंड के इन सबसे सुंदर अनछुए और अद्भुत घाटियाँ से यात्रा शुरू कर सकते है। ये उन घाटियों की लिस्ट है जिनकी बस झलक भर देखने के बाद आपका मन इन्हें तुरंत अपनी ट्रैवल लिस्ट में जोड़ने का करेगा।

पिंडर घाटी : उत्तराखंड में विचित्र और सुंदर घाटी (Pindar Valley : Bizarre And Lovely Valley in Uttarakhand)

कुमाऊँ के बागेश्वर ज़िले में पिंडर घाटी और पिंडारी नदी दोनों एक दूसरे के पक्के साथी हैं क्योंकि पिंडारी नदी इस घाटी के साथ साथ ही बहती है ।

पिंडारी नदी पिंडर घाटी के अलावा देवाल, थराली, कुलसरी, हरमानी, मींग, नारायण बगर और नलगाँव जैसे छोटे कस्बों से भी होकर निकलती है । पिंडारी नदी, कर्णप्रयाग में अलकनंदा नदी से मिलती है।

पिंडारी ग्लेशिअर कुमाऊं में सबसे अच्छा ट्रेकिंग मार्ग, जो पहले अल्मोड़ा जिले में स्थित था और अब बागेश्वर जिले में स्थित है, इसके गलियारों पर नंदकोट (6,860 मीटर), छांगुच (6,322 मीटर) और नंदघूण्टी (6,310) मीटर) स्थित है। पिंडर घाटी उत्तराखंड की सबसे प्रसिद्ध घाटियों में से एक है और कुमाऊँ क्षेत्र के केंद्र में स्थित है जो बागेश्वर के दर्शनीय जिलों में से एक है।

पिंडारी ग्लेशियर के पूर्व और पश्चिम में कफनी ग्लेशियर व तली में नंदकोट और सुन्दरधुंगा ग्लेशियर हैं। भुवनेश्वर की आकर्षक चूना पत्थर की गुफाएँ और मंदिर बागेश्वर के रास्ते में ही पड़ते है। पिंडर घाटी ख़ुद में ही कई सारे गाँवों का बसेरा है, जैसे कि धुर।

फूलों की घाटी : उत्तराखंड में प्रकृति प्रेमियों और दर्शनीय घाटी के लिए स्वर्ग (Valley Of Flowers : Paradise for Nature lovers And Scenic Valley in Uttarakhand)

10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand Valley Of Flowers
10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand Valley Of Flowers

फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान एक फूलों की घाटी का नाम है, जिसे अंग्रेजी में “Valley of Flowers” कहते हैं। यह उत्तराखण्ड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र में पड़ता है। पृथ्वी पर यह आभासी स्वर्ग बाहरी दुनिया के लिए अज्ञात रहा है जब तक कि महान पर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथ ने वर्ष 1931 में इसकी खोज नहीं की थी फूलों की घाटी को विश्व संगठन, यूनेस्को द्वारा सन् 1982 में घोषित विश्व धरोहर स्थल नन्दा देवी अभयारण्य नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान का एक भाग है।

इसे हिमालय क्षेत्र पिंडर घाटी अथवा पिंडर वैली के नाम से भी जाना जाता है, फूलों की घाटी (नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान) फूलों की घाटी का जन्म पिंडर से हुआ है जिसे पिंडर घाटी भी कहते हैं। पिंड+घाटी पिंड का अर्थ हिम और घाटी का अर्थ पहाड़ों का क्षेत्र जहां महादेव भगवान शिव का निवास होता है जो मुख्य रूप से चमोली जिले के पिंडर घाटी का ही क्षेत्र में स्थित है।

और देवी देवताओं का निवास स्थान है आज भी पिंडर घाटी में भगवान शिव के गण और देवताओं के वंशज निवास है, और हर वर्ष माता पार्वती नंदा देवी को हिमालय तक भगवान शिव के तपावस्वी स्थान तक पहुंचाने आते हैं जिसे वर्तमान में नंदा देवी यात्रा या भगवती भैट से भी जाना जाता है।

फूलों की घाटी यात्रा करने के लिये जुलाई, अगस्त व सितंबर के महीनों को सर्वोत्तम माना जाता है। सितंबर माह यहाँ पर ब्रह्मकमल खिलते हैं।

माणा घाटी : लोकप्रिय हिंदू तीर्थ स्थल और उत्तराखंड में अंतिम गाँव घाटी (Mana Valley : Popular Hindu Pilgrimage Site And Last village Valley in Uttarakhand)

भारत और तिब्बत के बीच की सीमा पर स्थित माणा लगभग 18,192 फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित है जो की दुनिया का सबसे ऊँचा पास है । इसे भारत का आख़िरी गाँव भी कहा जाता हैं। इसके अलावा यहाँ दो गुफ़ाएँ, व्यास गुफ़ा और गणेश गुफ़ा, जिन्हे देखना अपने आप में एक अच्छा अनुभव रहेगा । और अगर आप यहाँ हैं तो वसुंधरा झरना, सतोपंथ झील और भीम पुल घूमना नाभूलें।

माणा गावं का पूरा क्षेत्र पहाड़ियों से घिरा हुआ है और पास में कई छोटी-छोटी नदियाँ भी देखी जा सकती हैं। यह ट्रेकिंग के लिए एक आदर्श स्थान है और यहाँ पर कई ट्रेकिंग स्पॉट हैं।

माणा, हिन्दू सभ्यता और किवदंतियो के अनुसार वो महान जगह जहाँ महर्षि व्यास ने गणेश जी को महाभारत की पूरी कथा सुनाई थी और गणेश जी ने पूरी कथा लिखी। भगवान बिष्णु जी को समर्पित प्रसिद्ध बद्रीनाथ मंदिर माणा गाँव से मात्र लगभग 3 किमी0 की दूरी पर स्थित है। माणा घाटी में, गंगा नदी की सबसे बड़ी सहायक नदी अलकनंदा का उद्गम स्थल भी है।

दारमा घाटी : उत्तराखंड में पौराणिक मूल्य वाला घाटी (Darma Valley : Mythological value Valley in Uttarakhand)

उत्तराखंड में कहा जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र कुमाऊं क्षेत्र की तुलना में अधिक जोखिम भरा और साहसिक है। पर बात करें दारमा घाटी जो की उत्तराखंड कुमाऊं क्षेत्र के पिथौरागढ़ जिले में स्थित है। यह धारचूला, जो भारत और नेपाल में आंशिक रूप से स्थित है, से लगभग 70 किमी की दूरी पर स्थित है।

काली नदी दोनों देशों के बीच एक प्राकृतिक सीमा के रूप में कार्य करती है। दारमा नाम की ये घाटी पिथौरागढ़ में स्थित कुथ यांगती और लसार यांगती घाटी के बीच में बसती है। भारत-तिब्बत सीमा के करीब होने की वजह से, सिन ला की तरफ जाते हुए यहाँ से कैलाश पर्वत की चोटियों के शानदार नज़ारे देखने को मिलते रहते हैं।

दारमा घाटी का अविभाज्य सुरम्य परिदृश्य वर्धमान वनों, शानदार झरनों और धाराओं के साथ, शानदार अल्पाइन घास के मैदानों से घिरा हुआ है, जो रंगीन और खूबसूरत जंगली फूलों की मेजबानी करते हैं। घाटी का निर्माण दारमा नदी से होता है जिसे धौली गंगा के नाम से भी जाना जाता है जो घाटी से गुजरती है।

जोहार घाटी : उत्तराखंड में ट्रेकर्स और व्यापार मार्ग वाला घाटी (Johar Valley : Destination For Trekkers And Trade route Valley in Uttarakhand)

जोहार घाटी, जिसे मिलम घाटी या गोरीगंगा घाटी भी कहते हैं, भारत के उत्तराखण्ड राज्य में स्थित एक प्रसिद्ध घाटी है। गोरी नदी इसी घाटी से होकर बहती है। एक समय में इस घाटी से तिब्बत के लिए महत्वपूर्ण व्यापारिक रास्ते निकलते थे। सुंदर और अद्भुत नजारो वाले मिलम और मारतोली गावं इस घाटी में स्थित प्रमुख गावं हैं।

जोहार घाटी के 12 गांव मिलम हिमनद से निकलने वाली गोरी नदी के किनारे बसे हैं। मुनस्यारी से 6 हजार से 10 हजार फीट तक ऊंचाई पर बसे इन गांवों तक पहुंचने के लिए लगभग 65 किमी का पैदल सफर तय करना पड़ता है। मुनस्यारी को जोहार घाटी का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है।

मुनस्यारी तिब्बत जाने का काफी पुराना रास्ता हुआ करता था और जोहार घाटी कभी तिब्बत के साथ एक प्रमुख व्यापार मार्ग हुआ करता था। उस समय जब तिब्बत से व्यापार होता था तो मुनस्यारी को व्यापारी लोग गोदाम की तरह प्रयोग करते थे। जोहार घाटी के दोनों ओर बीहड़ इलाकों में कई छोटे-बड़े गांव बसे हैं, जो आज भी मौजूद हैं, जोहार घाटी में रहने वाले जोहारियों को शौका कहा जाता है।

हर की दून घाटी : उत्तराखंड में आकर्षण और भगवान की घाटी (Har Ki Doon Valley : The Valley of God And Charms Valley in Uttarakhand)

हर की दून जिसका अर्थ ईश्वर की घाटी है, यह उत्तराखण्ड के उत्तरकाशी जिले मे यमुना की सहायक रुपिन व सूपिन नदियों के आस-पास फतेह पर्वत की गोद मे बसा क्षैत्र है। इस घाटी का सौन्दर्य अलौकिक है। यह उच्च हिमालय के निकट स्थित एक अत्यन्त दुर्गम अन्चल है।

उत्तर में हिमाचल के किन्नोर व पूर्व में तिब्बत से सटा हर की दून का इलाका अपने भीतर गोविन्द पशु विहार वन्य जीव अभयारण्य को समेटे है। अक्सर यहाँ यात्री ट्रैकिन्ग के लिये आते हैं। उत्तराखंड की यह घाटी बोरसु दर्रे से होते हुए बसपा घाटी से जुड़ी हुई है।

घाटी की पृष्ठभूमि में लगभग 29000 फ़ीट की ऊंचाई वाली स्वर्गारोहिणी चोटी भी दिखाई देती है। यह क्षेत्र गढ़वाल हिमालय में एक झुकाव के आकार की घाटी है और हिमाच्छादित चोटियों और अल्पाइन वनस्पतियों से घिरा हुआ है। यह बोसासू दर्रे द्वारा बसपा घाटी से जुड़ा हुआ है।

टोंस घाटी : उत्तराखंड में सांस्कृतिक और समृद्ध विविधता वाली घाटी (Tons Valley : Cultural And Rich diversity Valley in Uttarakhand)

उत्तराखंड के उत्तरकाशी के टोंस घाटी में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। ये पूरा इलाका बेहद खूबसूरत है। प्रकृति ने तो खूबसूरती से नवाजा ही है। वहीं सांकृतिक रूप से भी ये इलाका समृद्ध है। यहां पर कई ट्रैकिंग रूट तो पर्यटकों की पहेली पसंद भी है। खास तौर पर गोविंद पशु विहार में पड़ने वाले गाँव अपनी मेहमान नवाजी से सबक दिल जीत लेते हैं। अभी कई इलाके ऐसे है जिनको एक्स्प्लोर किया जाना है और वह आज भी पर्यटकों से दूर हैं।

उत्तराखंड में टोंस घाटी यमुना नदी की प्रमुख सहायक नदी है और यह गढ़वाली क्षेत्र के तरफ से चलती है। वनस्पतियों और जीवों की समृद्ध विविधता के लिए प्रसिद्ध, अल्पाइन घास के मैदान, मोराइन की लकीरें, ग्लेशियर बेसिन, देवदार के जंगल और प्राचीन गाँवों के रास्ते, यात्रियों और यात्रियों को घाटी का एक शानदार और सुन्दर दृश्य प्रदान करता है।

दून घाटी : उत्तराखंड में शिवालिक पहाड़ियों या शांत घाटी का प्रवेश द्वार (Doon Valley : Gateway of Shivalik Hills Or Serene Valley in Uttarakhand)

दून घाटी भारतीय हिमालय के उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा में निचले हिमालय में शिवालिक पहाड़ियों के भीतर एक असामान्य रूप से चौड़ी विस्तृत और लंबी घाटी है। दून घाटी के भीतर उत्तराखंड राज्य की राजधानी देहरादून शहर स्थित है।

10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand Doon Valley
10 Best and Beautiful Valley in Uttarakhand Doon Valley

दून घाटी देहरादून के लिए एक स्थानीय शब्द है, विशेष रूप से शिवालिक में या शिवालिक और उच्च हिमालयी तलहटी के बीच एक खुली घाटी को कहा जाता है। दून घाटी निचले हिमालय में शिवालिक पहाड़ियों के भीतर स्थित, यह घाटी लगभग 3,556 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

10 Best Hill Station Around Dehradun

घाटी गंगा और यमुना नदियों के बीच स्थित है यह घाटी अपने आकर्षक और शांत स्थानों के लिए जानी जाती है जो चिलचिलाती गर्मी के बाद पर्यटकों और यात्री को प्रवेश करने के लिए एक प्रवेश द्वार प्रदान करता हैं। जहां एक तरफ चोटियों से घिरा और तो वहीं दूसरी तरफ घने जंगल और समतल, घाटी एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है।

सौर घाटी : उत्तराखंड में सबसे छोटी, शांत और सुंदर घाटी (Saur Valley : Smallest, Cool and beautiful Valley in Uttarakhand)

पिथौरागढ़ का पुराना नाम सोरघाटी है। सोर शब्द का अर्थ होता है– सरोवर। यहाँ पर माना जाता है कि पहले इस घाटी में सात सरोवर थे। सौर घाटी लगभग 8 किमी तक फैली हुई है।

यह घाटी सुंदर और ऊँचे पहाड़ों से घिरा है, धीरे-धीरे दक्षिण-पूर्व में ढलान है, और उत्तर और पश्चिम में पहाड़ों की उत्पत्ति के लिए स्लेट, चूना पत्थर और ग्रीनस्टोन के एक ट्यूबलर रिज द्वारा उत्तर और दक्षिण में बिशिनेट किया गया है, जो दक्षिण-पूर्व की ओर शाखा करता है। लगभग 1,650 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, घाटी त्रिशूली, नंदादेवी, पंचचूली समूह और चांडक नामक स्थान से नेपाल के आदि में फैली विशाल हिम श्रृंखला के मनोरम दृश्य प्रस्तुत करती है।

भिलंगना घाटी : उत्तराखंड में उत्साही घाटी (Bhilangana Valley : Enthralling Valley in Uttarakhand)

उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित भिलंगना घाटी, उत्तरी हिमालय श्रृंखला का एक हिस्सा है, जिसमें दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटियों में से कुछ हैं, जिनमें लगभग 5500 मीटर से अधिक कीरी, द्रौपदी-का-डांडा और जानोली शामिल हैं। यह क्षेत्र कई साहसी पैदल यात्रियों को अपने और ट्रेक करने के लिए आकर्षित करता है, जो घाटी में शानदार खतलिंग ग्लेशियर तक पहुँचने के लिए रास्ता तलाशते हैं।

भील घाटी होने के बावजूद, भिलंगना पर्यटकों की एक स्थिर धारा है। खतलिंग ग्लेशियर उत्तराखंड राज्य के जिला टिहरी गढ़वाल में स्थित है, जो अपने उच्च, शांत और सुंदर पहाड़ियों के लिए जाना जाता है।

भिलंगना नदी के स्रोत के कारण गढ़वाल हिमालय का खतलिंग ग्लेशियर एक बहुत महत्वपूर्ण ग्लेशियर है। ग्लेशियर के आसपास हिमालय की मोटी बर्फ की चोटियों विधमान है।

2 thoughts on “10 Best Lovely Valley in Uttarakhand

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: